ALL संपादकीय देश विदेश राजनीति अपराध ई-पेपर मध्यप्रदेश इंदौर
अर्थव्यवस्था को लेकर चिंता: उपभोक्ताओं का कमजोर हुआ भरोसा, घटा रहे व्यक्तिगत खर्च
January 21, 2020 • JAWABDEHI • देश

 

नई दिल्ली । अर्थव्यवस्था को लेकर जारी चिंताओं के बीच जनवरी में उपभोक्ताओं का भरोसा कमजोर हो गया, जिससे उन्होंने अपना व्यक्तिगत खर्च और निवेश कम करना शुरू कर दिया है। इसके साथ ही उपभोक्ताओं की भविष्य को लेकर धारणा में भी कमजोरी देखने को मिल रही है। थॉमसन रॉयटर्स-इप्सॉस के एक संयुक्त अध्ययन में यह खुलासा हुआ है। इस शोध के मुताबिक, 'जनवरी, 2020 में उपभोक्ता धारणा में 7.3 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है।' रिपोर्ट कहती है कि व्यक्तिगत खर्च और निवेश को लेकर आत्म-विश्वास घटने से यह गिरावट रही है। यह बदलाव इसलिए भी अहम है, क्योंकि एक अरसे से अर्थव्यवस्था को लेकर भी चिंताएं बनी हुई हैं। हालांकि पिछले महीने की तुलना में रोजगार को लेकर भरोसे में इजाफा देखने को मिला है।

इप्सॉस के सीईओ (भारत) अमित आदरकर ने कहा, 'अमेरिका और ईरान के बीच तनाव के चलते आवश्यक वस्तुओं की महंगाई और कीमतें ऊंची बनी हुई हैं। वहीं अमेरिका-चीन के बीच व्यापार युद्ध को लेकर भी अनिश्चितता अभी भी कायम है।' आगे आईटी प्लानिंग में हालात बिगड़ रहे हैं, जिससे आय घटने की आशंकाएं बढ़ गई हैं और मौजूदा वैश्विक मंदी से भारत के आर्थिक विकास पर भी असर पड़ा है।

उपभोक्ताओं के आत्म-विश्वास के आकलन के लिए इस्तेमाल होने वाले चार सूचकांकों में तीन में जनवरी, 2020 में गिरावट दर्ज की गई है। इसमें आर्थिक उम्मीदें, निवेश परिदृश्य और मौजूदा व्यक्तिगत वित्तीय स्थिति शामिल है। सिर्फ रोजगार विश्वास में ही पिछले महीने की तुलना में मामूली 0.50 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की गई है। ऑनलाइन कराए गए इस सर्वेक्षण में देश के ऑनलाइन तबके ने हिस्सा लिया। यह संभवत: आम जनता के विचारों की झलक नहीं हो, क्योंकि इसमें 'ज्यादातर शहरी, शिक्षित लोगों ने हिस्सा लिया।' आम आबादी की तुलना में इनकी आमदनी ज्यादा होती है।

आरबीआई ने अपने हालिया उपभोक्ता विश्वास सूचकांक में कहा था कि आर्थिक सुस्ती के चलते आने वाले महीनों में इसमें सुधार होने की उम्मीद कम ही है। आरबीआई ने दिसंबर में अपनी पांच द्वैमासिक समीक्षा में कहा था, 'उपभोक्ताओं द्वारा कीमतों में बढ़ोतरी के चलते अपने कुल खर्च को बढ़ाने की उम्मीद नहीं है।